Site Loader
Helen Keller story in hindi

Helen keller story in hindi हेलन ऐडम्स केलर ऐसी महिला जो कि अमेरिकी लेखक राजनीतिक कार्यकर्ता और प्रवक्ता थी तो आप कहेंगे इसमें कौन सी बड़ी बात है बहुत से लोगों ने अपने जीवन में बहुत बड़े-बड़े काम किए हैं। लेकिन Helen Keller एक ऐसी महिला थी जो ना देख सकती थी और ना सुन सकती थी इसके बावजूद भी इतनी बड़ी उपाधियां अर्जित करना कोई आम बात नहीं .

नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है हमारे हिंदी ब्लॉग Himachal Josh में और आज मैं आपको हेलेन केलर की कहानी एवं हेलेन केलर की जीवनी के बारे मे बताऊँगा जिसे सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे और अगर आपको story of Helen Keller पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों के साथ सांझा जरूर करें । तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं हेलेन की जीवनी और about Helen Keller in Hindi 

About Helen Keller In Hindi 

Helen Keller  का जन्म 26 अक्टूबर 1880 को अमेरिका के अलबामा में हुआ था,  जन्म के समय हेलेन केलर बुक उस वक्त थी लेकिन 19 महीने के बाद वह बीमार पड़ गई और मुझसे मारी के कारण उनकी सुनने और बोलने की शक्ति चली गई।  हेलेन केलर ने उनका इलाज करने की बहुत कोशिश की लेकिन कुछ संभव नहीं हो पाया। 

हेलन के माता-पिता के सामने बहुत बड़ी चुनौती थी कि ऐसा कौन शिक्षक होगा जो हेलेन केलर को समझना सिखा पाएगा इसलिए क्योंकि हेलेन सामान्य बच्चों से बहुत अलग थी लेकिन बहुत कोशिश के बाद होने एक शिक्षक मिल गया का नाम था ऐनी सुलेवान जिन्होंने हेलेन केलर को हर संभव शिक्षा दी। उन्होंने हेलेन केलर को मैनुअल ऐल्फबेट और बेरेल लिपि पढ़ने की कोशिश कि 

उनके सामने बहुत कठिनाइयाँ आई लेकिन उन्होने हार नहीं मानी Helen Keller की Success के पीछे उनकी टीचर का बहुत बड़ा हाथ है। जैसे तैसे हेलेन केलर बड़ी होती गई उन्होंने राइट हुमसन डेफ स्कूल से शिक्षा प्राप्त की। 

Helen Keller education 

स्कूल की शिक्षा पूरी करने के बाद हेलेन केलर भी चाहती थी कि वह आगे पढे और उन्होंने स्नातक की शिक्षा के लिए रेडफिक कालेज मैं दाखिला लिया। 1902 में उन्होंने उस College से अपनी  स्नातक की शिक्षा पूरी कर ली , College Education पूरी करने के बाद हेलेन केलर को लिखने का भी शौक था । 

 उन्होंने एक ऐसी किताब लिखिए जो कि पूरे विश्व भर में प्रसिद्ध हुई और किताब का नाम था द स्टोरी ऑफ माय लाइफ ” The story of my Life ” और उन्होंने बुक यानी किताब के जरिए बता दिया कि अगर अपनी जिंदगी में संघर्ष किया जाए तो ऐसी कोई चीज नहीं है जिसे मनुष्य हासिल नहीं कर सकता क्योंकि वैलेंटाइन डे ने खुद अपनी जिंदगी में बहुत संघर्ष किया था । 

इसके बाद हेलेन केलर ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और एक प्रोफेसर और लेखक के रूप में उभर के सामने आई । हेलेन केलर  ने पूरे दुनिया में भ्रमण किया और अपनी सोच और विचारों से दुनिया को बदला। और बताइए आपको हेलन केलर के जीवन के संघर्षों से आपको क्या सीखने को मिला आप हमें कमेंट करके जरूर बताइए धन्यवाद अथवा Helen Keller ke bare me जो भी आपको अच्छा लगा आप अपनी राय जरूर दें । धन्यावाद प्यारे दोस्तों Helen Keller story in Hindi को पढ़ने के लिए आपका समय शुभ रहे । 

 

Gokul Thakur

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *